जल प्रदुषण (water pollution in hindi ) | जल प्रदुषण पर निबंध |

जल का प्रयोग तो हम हररोज करते है लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की जल प्रदुषण क्या होता है ? तो यहाँ पर आपको हम water pollution in hindi के बारे में इस लेख में जानकारी देंगे|इनके आलावा आपको water pollution (जल प्रदुषण ) के बारे और जल प्रदूषण के नियंत्रण के उपाय के बारे में बताया जायेगा | 

जल प्रदुषण क्या है ? |What is water pollution in hindi

जल प्रदुषण (water pollution in hindi ) एक बड़ी समस्या है लेकिन हमको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की जल हमारे जीवन का एक भाग है |  जल प्रदूषण का अर्थ होता है पानी का बिगाड़ करना | जल को पर्यावरण का अभिन्न अंग माना जाता है |  मनुष्य के मुखिय जरूरयातो में से एक जल भी है |

water-pollution-in-hindi

हमारे दिन की शुरुआत जल से होती है और दिन का अंत जल से ही होता है | जल हमारे जीवन का अभिन्न अंग है |  जल के बिना हमारा जीवन संभव ही नहीं है|  सिर्फ मनुष्य ही नहीं पृथ्वी पर के सारे प्राणी जिव जल पर निर्भर है | बिना जल के मानव जीवन कुछ ही दिन जिंदा रह सकता है इसका मुख्य कारण यह है कि मानव के शरीर का मुख्य हिस्सा जल के द्वारा लीया गया है  | 

इन सारी बातों का ज्ञान होते हुए भी हम कहीं ना कहीं , किसी ना किसी रूप से पानी का बगाड़ एवं व्यय करते हैं | मनुष्य जीव जल को बिना सोचे कहीं ऐसी चीजें मिला देते हैं जो कि जल प्रदुषण (water pollution in hindi ) का मुख्य कारण होती है | जो हमें मुख्य रूप से नदी तालाब और सरोवर में से प्राप्त होता है |  इन्ही स्त्रोत  की मदद से जल हमारे घर तक पहुंच पाता है | भारत की बढ़ती जनसंख्या के कारण और औद्योगिकरण के कारण जल प्रदूषण की मात्रा दिन प्रतिदिन बढ़ती रहती है|

पहले गंगा नदी का पानी काफी स्वच्छता था लेकिन दिन प्रतिदिन बढ़ती जनसंख्या के कारण आजकल गंगा नदी का जल  प्रदूषित हो चुका है |अगर हमें अपने जीवन को अच्छे से चलाना है तो जल का होना आवश्यक होता है इसी के लिए हमें water pollution को रोकना चाहिए जितना हो सके इतना जल प्रदूषण के कारण को कम करने की कोशिश करनी चाहिए | हर एक भारतीय का प्रयत्नजल प्रदुषण (water pollution in hindi ) रोकने के लिए होना चाहिए | जल के आलावा भी हमें अपने सारे प्राकृतिक चीजों का प्रदूषण कम से कम करना चाहिए | 

जलस्त्रोत के प्रदुषण प्रकार है | Water pollution in hindi project

  • बिंदु स्त्रोत
  • विस्तृत स्त्रोत

बिंदु स्त्रोत

जब किसी आवश्यक और निश्चित क्रिया के कारण दूषित जल सीधा मुख्य स्रोत को मिलता है  तो इसे बिंदु स्त्रोत प्रदूषण किया जाता है | इस चीज को कम करके बिंदु स्त्रोत के प्रदूषण को कम किया जाता है | अगर किसी घर का गंदा या दूषित पानी पाई के माध्यम से मुख्य स्त्रोत में छोड़ना यह एक दिन जल प्रदुषण का मुख्य उदाहरण है | 

विस्तृत स्त्रोत

मानव के द्वारा की गई कुछ तो उसी के कारण जब कोई जल दूषित होता है और वह जल अलग-अलग माध्यमों से किसी मुख्य स्त्रोत में जाता है| तो उसे विस्तृत स्रोत जल प्रदुषण (water pollution in hindi )  कहा जाता है|

water pollution in hindi jal pradushan

भारत में यह विस्तृत स्वच्छ जल प्रदूषण जल प्रदूषण का मुख्य और विशिष्ट कारण है इसके कारण लगभग ज्यादा मात्रा में जल प्रदूषण होता है | छोटी छोटी नालिया अलग-अलग माध्यम से आती है इसके लिए इस को इकट्ठा करना मुश्किल हो जाता है और बहुत से सीधा नदी में जाकर मिल जाता है | 

यह लेख भी पढ़े – Vidhwa pension yojana 2021 

विस्तृत जल प्रदूषण के कारण |  

हमारे घर से निकलता हुआ सारा दूषित जल नालों में  जाता है |  इन्हीं सारे नालों को मिलाकर इन सारे दूषित जल को नदियों में मिलाया जाता है इसी तरह से नदी का और भी पानी प्रदूषित होता है|  इसी के साथ मिला हुआ कचरा मिट्टी से नदियों में मिल जाता है और नदी का साफ-सुथरा पानी भी  इसके साथ प्रदूषित बन जाता है | 

जल क्षेत्रों की भौतिक स्थिति को देखकर वह कितना प्रदूषित हो सकता है उसका अनुमान किया जा सकता है | जल सिर्फ हमारे लिए ही नहीं बल्कि कही जल प्राणिओ के लिए  महत्त्वपूर्ण  है | दूषित जल जलीय प्राणिओ के लिए हानिकारक हो सकता है और वह उनके जीवन को खतरे में डाल सकता है | water pollution का पता लगाने के लिए रासायनिक विश्लेषण की आवश्कयता होती है | 

जल प्रदुषण एक वैश्विक समस्या में से एक है | इस समस्या के लिए कही जगहों पर संशोधन चल रहे है और इनके निवारण के लिए प्रयत्न हो रहे है | जल प्रदुषण के कारन १४,००० से ज्यादा लोगो को मौत प्रति दीन हो रही है  | जिसमे अगर हम बात करे की भारत में कितने लोको की मौत जल प्रदुषण के कारन हो रही है ?  तो आपको बता दे की जल प्रदुषण के कारण भारत में लगभग ५८० लोग से ज्यादा लोगो की मौत प्रतिदिन हो रही है | चीन में लगभग ९० प्रतिशत प्रदेश जल प्रदूषित है जो की बाकि देशो के मुकाबले यह ज्यादा है |इस की ज्यादा जानकारी आप विकिपीडिआ से ले सकते है |  

जल प्रदुषण के मुख्य कारण | Water Pollution Reason |

जल प्रदुषण होने के लिए कही कारण जवाबदार लेकिन कुछ कारण के बजह से ज्यादा जल प्रदूषित होता है जिनको हम मुख्य कारण भी कह सकते है तो में आपको यहाँ पर उन सभी कारण के बारे में बता देता हु जिनकी बजह से जल प्रदुषण की मात्रा बढ़ रही है | 

water pollutionजल प्रदूषण रोकने के उपाय
  • प्राकृतिक कारण 

हम सब जानके है की बड़ी बड़ी फेक्ट्री में से निकलता हुआ प्रदूषित गैस हवा में जाके मिलता है|  जिसके कारण हवा में वह बादल में मिल जाता है जिसके कारण जब भी वर्षा होती है तो वह जल प्रदूषित होता है और साथी में कुछ बिनजरूरी पदार्थ मिलने से भी यह जल प्रदूषित हो जाता है | इसके बिना हम बात करे तो ज्वालामुखी भी एक मुख्य  कारण है | 

अगर आपको बताया जाये की जल प्रदूषण के मुख्य कारण हम मनुष्य है तो इस बात से आपको हैरानी नहीं होनी चाहिए की जल प्रदुषण के मुख्य जवाबदार हम मानवी ही है |जल प्रदूषण के कारण करना हो या जल का बिगाड़ करना हो हम मानवी ही इसके लिए जवबदार है | हम दिन प्रतिदिन जरूरत से ज्यादा जल  का उपयोग करते हैं | जो की जल प्रदुषण (water pollution in hindi ) के लिए जवाबदार है | 

अन्य पढ़े – zero investment business

  • रोगजनक 

कहीं ऐसे लोग होते हैं जिनके कारण से जीवाणु की मात्रा बढ़ जाती है और वह जीवाणु के कारण  पानी प्रदूषित होता है और वह उपयोग करने के काबिल नहीं होता है इसके अलावा सड़े हुए खाद्य पदार्थ की वजह से भी जल का प्रदूषण होता है| 

जल प्रदूषण का अर्थ - जल प्रदूषण का अर्थ
  • दूषित पदार्थ

भारत एक औद्योगिक देश है भारत में कई जगह बड़े बड़े उद्योगों को जगह मिल रही है और इसी के चलते उद्योगों में से निकलता हुआ दूषित जल नदियों में मिलकर अच्छे पानियों को भी दूषित कर देता है |

इसके अलावा उद्योगों में से निकल रहा बिन जरूरी केमिकल कर्मचारी के द्वारा पानी में मिलाया जाता है | जो कि इसकी मात्रा सबसे ज्यादा है| इसके अलावा उद्योगों में से निकल रहा अभी बिनजरूरी कचरा उद्योगपति के द्वारा नदी में मिलाया जाता है| 

भारत में गणेश उत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है लेकिन पीओपी से बनी हुई गणेश जी की मूर्ति पर्यावरण के लिए नुकसान कारक है | इसके कारण पानी के जल सपाटी प्रतिदिन ऊपर आ रहा है और इसके चलते पानी की मात्रा कम होती रहती है और पानी शहरों में प्रवेश का खतरा रहता है| 

अभी तक आपको  को पता चल गया होगा कि जल प्रदूषण कैसे होता है? और जल प्रदूषण के लिए कौन से कौन से कारण जवाबदार है|  इसीलिए जल का बचाव करना पृथ्वी के सभी मनुष्य की जिम्मेदारी है तो यहां पर मैं आपको बता देता हूं कि आप किन-किन तरीके से जल प्रदूषण का बचाव कर सकते हैं और जितना हो सके उतना जल का कम व्यय हो सकता है 

जल प्रदूषण रोकने के उपाय |water pollution control 

  • कारखाना या उद्योग में से निकल रहा बिन जरूरी कचरा नदियों में बहा देने की जगह उनको फिर से उपयोग में लिया जाए ऐसी व्यवस्था की जाए या फिर उनको जमीन में गाड़ दिया जाए| 
  • जब भी हम कभी बिन जरूरी बहता हुआ जल देखें तभी हम  उनको रोकने की  कोशिश करनी चाहिए| 
  • नदी या अन्य किसी जादू के स्त्रोत में बिन जरूरी कजरा बहाने पर कायदा  कायदा बनाया जाए और हो सके उतनी सजा दी जाए | 
  • जल प्रदूषण में जीवाणुओं को नष्ट करने के लिए रासायनिक पदार्थ का प्रयोग करना चाहिए | 
  • समुद्र में किए जाने वाले परीक्षण पर रोक लगा दी जाए | 

जल प्रदुषण (water pollution in hindi ) एक वैश्विक समस्या है इसी बात को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाया जाए और जल प्रदूषण के खतरे पति लोगों में चेतना पहुंचाई जाए | 

धरती पर जल प्रदूषण एक महत्वपूर्ण विषय बन चुका है उनको  रोकने का धरती पर के हर एक नागरिक का कर्तव्य है और जल प्रदूषण को एक संशोधन का विषय बना कर उन पर रोक लगाना हमारा कर्तव्य है जल के बिना हमारा जीवन संभव नहीं है | यह बात हमें हर उस वक्त याद आनी चाहिए जिस पर हम जल प्रदूषण कर रहे  होंगे | 

जल के बिना जीवन असंभव है उसी बात को ध्यान में रखते हुए हमें जल का उपयोग करना चाहिए ताकि हम कम से कम जल में ज्यादा से ज्यादा काम ले सके दूषित जल का दुबारा से किस तरह से उपयोग हो सके उसका प्रयत्न करना चाहिए

जल प्रदुषण को कम कैसे करे ?

जल प्रदुषण को काम करनेके लिए हमें कमसे काम पानी में ज्यादा काम लेना चाहिए |

जल प्रदुषण क्या है ?

जल प्रदुषण का मतलब है दूषित पानी जो पानी आगे चलकर हमें उपयोग में नहीं आने वाला वह पानी को हम प्रदूषित पानी कहते है

जल प्रदुषण के मुख्य कारण ?

उद्योगों में से निकलता हुआ कचरा जल प्रदुषण के लिए जवाबदार कारण है |

हमने आपको जल प्रदूषण से हो रहे समस्या और उनके निवारण में बारे में बताया जहां पर आप को जल प्रदूषण के बारे में सारी जानकारी मिल रही होगी इसी तरह के अधिक भी जानकारी के लिए  हमारे वेबसाइट पर रोजाना मुलाकात करें जहां पर आपको हिंदी भाषा में जरूरी जानकारी मिल जाएगी | 

Leave a Comment