‘इंडिया’ से ‘भारत’ – संसद में नाम परिवर्तन की संभावना की खोज ( India to be named Bharat )

” India to be renamed to Bharat ” नाम परिवर्तन के इस विचार ने भारतीय राजनीति में एक बड़ा मुद्दा खड़ा किया है, जिसका प्रमुख विषय है क्या देश का नाम ‘इंडिया’ से ‘भारत’ (India to be named Bharat) में बदलना चाहिए। 18 सितंबर से शुरू होने वाले पांच दिन के संसद के विशेष सत्र के आसपास सरकार से एक बड़ा निर्णय की संभावना के बारे में बहुत सारी चर्चाएँ हैं।

समान नागरिक संहिता और ‘एक देश, एक चुनाव’ जैसे मुद्दों के बारे में चर्चा के बाद, एक आधिकारिक संविधान संशोधन के तहत हमारे देश के नाम के पोसिबल बदलाव की ओर इशारा करने वाले एक प्रस्ताव की ओर एक सुनिश्चित कदम हो सकता है। यदि यह प्रस्ताव पूरा होता है, तो यह हमारे देश की पहचान में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन का सूचक होगा।

india to be named bharat , india name change
india to be named bharat , india name change

भारत का इतिहासिक परिप्रेक्ष्य

भारतीय संविधान की धारा 1 में हमारे देश को ‘इंडिया, यानी भारत’ दिया गया है, जो ‘राज्यों का संघ’ है। हमारे देश का नाम गठित सभा में व्यापक चर्चा के परिणामस्वरूप तय किया गया था, जहाँ कुछ सदस्य ‘इंडिया’ का नाम चाहते थे, जबकि दूसरे ‘भारत’ को बनाए रखने की कड़ी बढ़ाई। यह प्रस्तावित नाम परिवर्तन प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाए गए सरकार के स्थायी रूप से ‘भारत’ नाम की ओर प्रवृत्ति के साथ मेल खाता है। उन्होंने अपने 2022 के स्वतंत्रता दिवस भाषण में नागरिकों से अबाध भाषा में अपने देश की सांस्कृतिक पहचान को गले लगाने के रूप में भारत के नाम की परिवर्तन को प्रस्तुत किया।

परिवर्तन की आवाजें ( India Name Change )

हाल की घटनाएं इस प्रस्ताव के चारों ओर उम्मीद को वज़न दे रही हैं। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सर्मा की सोशल मीडिया पोस्ट जिसमें ‘भारत की गणराज्य’ का उल्लेख है और राष्ट्रपति को ‘भारत के राष्ट्रपति’ के रूप में पुकारा गया है, नाम परिवर्तन के अफसोस को और भी मजबूती देती है।

भाजपा का ‘भारत’ का समर्थन

हिमंत बिस्व सर्मा सहित कई भाजपा नेता देश के नाम को ‘भारत’ रखने के समर्थन में आए हैं। सर्मा के बोल हैं, “भारत की गणराज्य – हमें गर्व है कि हमारी सभ्यता आमृत काल की ओर महत्वपूर्ण कदम साहसपूर्वक बढ़ रही है।”

राजनीतिक चर्चा और विरोध

हालांकि, इस प्रस्तावित नाम परिवर्तन ने राजनीतिक बहस तो पैदा की है। कांग्रेस के नेता जयराम रमेश ने कहा कि राष्ट्रपति भवन ने ‘भारत के राष्ट्रपति’ के नाम से जी-20 डिनर के लिए आमंत्रण भेजा है और इसे नाम परिवर्तन की संभावना को साबित करता है। देश के नाम को ‘इंडिया’ से ‘भारत’ में बदलने की मांग कई बार की गई है, और इसका समर्थन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के मुख्य मोहन भगवत समेत कई लोगों ने भी किया है। विरोधक इसे भारत को उसकी औपचारिक विरासत से दूर करने का प्रयास मानते हैं। India name change Bharat news जानके आपको कैसा लगा |

INDIA vs ‘भारत’

नाम परिवर्तन के विचार ने INDIA गठबंधन के राजनेताओं का भी ध्यान खींचा है। जयराम रमेश और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस नाम परिवर्तन के विचार पर अपने आपत्तिजनक विचार व्यक्त किए हैं। केजरीवाल ने विचार किया कि क्या भाजपा ‘भारत’ नाम को अपनाएगी, अगर INDIA गठबंधन इस नाम को अपनाए, और उन्होंने इस बात को बल दिया कि देश अपनी विशाल जनसंख्या के लोगों का है, सिर्फ़ एक पार्टी का नहीं।

निष्कर्षण

भारत को ‘भारत’ में नाम बदलने की संभावना अब एक राष्ट्रीय चर्चा का मुद्दा है। हम विशेष संसद सत्र का इंतजार करते हैं, जहाँ यह सुझाव मुख्य आ सकता है, तब तक देखना होगा कि यह नाम परिवर्तन हमारे देश की पहचान को कैसे प्रभावित करता है और भारतीय राजनीति की गतिविधियों को कैसे प्रभावित करता है, खासकर हाल ही में बने INDIA गठबंधन के बीच सरकार और विपक्ष के बीच ताजा आक्रोश की ओर जा सकता है।

इस रूप में, नाम परिवर्तन का प्रस्ताव एक महत्वपूर्ण राजनीतिक और सांस्कृतिक मुद्दा है, जिसके बारे में हमें विचार करने का समय आ गया है। इसके आगामी पांच दिनों के संसद सत्र में इस प्रस्ताव को लेकर और भी गहरी चर्चा होगी, और हमें देखना होगा कि क्या यह परिवर्तन नाम की बदलाव से हमारे देश की पहचान और भारतीय राजनीति की गतिविधियों को कैसे प्रभावित करता है, खासकर हाल ही में बने INDIA गठबंधन के साथ सरकार और विपक्ष के बीच ताजा आक्रोश की ओर जाने की संभावना है।

यह आलेख दिखाता है कि नाम के परिवर्तन से कैसे एक देश की पहचान और राजनीति की गतिविधियों को प्रभावित किया जा सकता है, और यह भी स्पष्ट होता है कि देश के नाम को बदलने की इस प्रस्ताव के पीछे की विचारधारा क्या है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top